कोलेस्ट्रॉल कम करने का रामबाण इलाज, सम्पूर्ण जानकारी

Spread the love

कोलेस्ट्रॉल कम करने का रामबाण इलाज: आजकल की भाग दौड़ बरी जिंदगी में कोलेस्ट्रॉल लेवल बढ़ना एक आम समस्या बन गयी है केस्टरॉल (high cholesterol) का बड़ा होना आपके दिल के स्वास्थ्य को गंभीर रूप से प्रभावित करता है। खून में जमी यह गंदगी (bad cholesterol) हार्ट अटैक, स्ट्रोक और दिल से जुडी कई बीमारियों को बड़ा सकता है। खाने-पीने की खराब आदतों, बुरा लाइफ स्टाइल और एक्सरसाइज, यगाभ्यास की कमी से कोलेस्ट्रॉल लेवलबढ़ सकता है।

अगर देखा जाये तो यह (bad cholesterol) मोम की तरह चिपचिपा पदार्थ होता है, ज्यादा तल्ला भूनना, चर्बी वाले खाने का सेवन करने से नसों में इकठ्ठा होता रहता है। इसकी कारण नसों में ब्लॉकेज आ सकती है और हमारे बॉडी में चलने वाला ब्लड फ्लो धीमा हो सकता है, आज इस ब्लॉग (कोलेस्ट्रॉल कम करने का रामबाण इलाज) में, हम जानेंगे कि कोलेस्ट्रॉलको कम करने के लिए कौन-कौन से रामबाण इलाज हैं।

कोलेस्ट्रॉल बढ़ने के लक्षण

कोलेस्ट्रॉल बढ़ने पर हमारा शरीर देता है संकेत और इन्हें नजरअंदाज नहीं करना चाहिए। हाई कोलेस्ट्रॉल से हार्ट अटैक, स्ट्रोक, ब्लड फ्लो और कई दूसरी बीमारी हो सकती हैं। यहां कुछ कोलेस्ट्रॉल बढ़ने के लक्षण है जो अगर आपको दिख रहे हैं तो इसे नजरअंदाज ना करें।

इसे भी पड़ें   Godhan Ark Ke Fayde: गोधन अर्क के फायदे और नुकसान, सेवन विधि, मूल्य (पूरी जानकारी)
धमनियों में सुलझन:

अगर आपके शरीर की धमनियों में सुलझन हो रही है, तो यह भी कोलेस्ट्रॉल बढ़ा होने का संकेत हो सकता है।

सीने में दर्द:

हाई कोलेस्ट्रॉल के कारण हार्ट संबंधित समस्याएं हो सकती हैं और इसका एक सामान्य लक्षण सीने में दर्द है।

अपच या गैस की समस्याएं:

कोलेस्ट्रॉल बढ़ने के कारण पाचन प्रणाली में समस्याएं हो सकती हैं, जिससे पेट में अपच और गैस की समस्याएं पैदा हो सकती हैं।

साँस में कठिनाई:

कोलेस्ट्रॉल बड़ने (high cholesterol) के कारण धमनियों में जमा हुए फैट की वजह से कई बार मरीजों को साँस लेने में कठिनाई हो सकती है।

चक्कर आना या बेहोशी:

हाई कोलेस्ट्रॉल दिल के स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकता है और इससे चक्कर आना या बेहोशी का अनुभव हो सकता है। यदि किसी को लगता है कि उन्हें इन लक्षणों का सामना करना पड़ रहा है, तो तुरंत चिकित्सक से संपर्क करें।

कोलेस्ट्रॉल कम करने का रामबाण इलाज

कोलेस्ट्रॉल कम करने का रामबाण इलाज, हाई कोलेस्ट्रॉल को कम करने के लिए सही लाइफस्टाइल और पौष्टिक आहार हमेशा लाभकारी साबित होता हैं। यहां हमने 6 आसान तरीके बताये हैं जो आपको कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करने में मदद कर सकते हैं।

सही खानपान:

फल और सब्जियां ज्यादा सेवन करें, इसके साथ हाई फाइबर वाले अनाजों को प्राथमिकता दें, जैसे कि ओट्समील, ब्राउन राइस का इस्तेमाल ज्यादा करें। बात करें अगर कुकिंग आयल की तो जैतून का तेल, कानोला तेल का उपयोग करें। आलमंड, वॉलनट्स, और फ्लैक्ससीड्स जैसे नट्स और बीज का सेवन करें.

नियमित व्यायाम:

रोजाना व्यायाम और योग करना हाई कोलेस्ट्रॉल को कम करने में मदद कर सकता है। कम से कम 30 मिनट का प्रतिदिन व्यायाम करें। जैसे तेज चलना, जॉगिंग, साइकिल चलाना या तैराकी करने से अच्छा कोलेस्ट्रॉल बढ़ सकता है.

इसे भी पड़ें   गर्भ ठहरने के कितने दिन बाद उल्टी होती है, यहाँ मिलेगी पूरी जानकारी

वजन कम करना:

अगर आपका वजन ज्यादा है तो वजन कम करने का प्रयास करें, क्योंकि वजन कम करने से बुरा कोलेस्ट्रॉल कम हो सकता है।

ग्रीन टी का सेवन:

नियमित रूप से ग्रीन टी पीने से हाई कोलेस्ट्रॉल कम होता है। इसलिए ग्रीन टी का उपयोग भी फायदेमंद है।

तंबाकू और शराब से बचें:

अगर आप हाई कोलेस्ट्रॉल का सामना कर रहे हैं तो, सिगरेट और तंबाकू का सेवन बंद करें, और ज्यादा शराब पीने से बचें, क्योंकि ये हाई कोलेस्ट्रॉल का कारण बन सकते हैं।

कॉफी का इस्तेमाल:

देखा जाये तो कुछ अध्ययनों के अनुसार, कॉफी में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट्स बुरे कोलेस्ट्रॉल को कम करने में मदद कर सकते हैं।

निष्कर्ष

अगर आपके शरीर में कोलेस्ट्रॉल बढ़ने के लक्षण दिखाई दे रहे हैं, तो इसे नजरअंदाज नहीं करना चाहिए। धमनियों में सुलझन, सीने में दर्द, पेट में अपच या गैस, साँस में कठिनाई, चक्कर आना या बेहोशी – ये सभी हाई कोलेस्ट्रॉल के लक्षण हो सकते हैं।

कोलेस्ट्रॉल को कम करने के लिए सही खानपान, नियमित व्यायाम, वजन कम करना, ग्रीन टी का सेवन, तंबाकू और शराब से बचाव, और कॉफी का इस्तेमाल जैसे तरीके हमेशा फायदेमंद साबित होते हैं। इन सावधानियों को अपनाकर आप अपने कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित रख सकते हैं और स्वस्थ जीवनशैली का आनंद उठा सकते हैं।

FAQ: अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

प्रश्न: कोलेस्ट्रॉल कितना होना चाहिए

उतर: कोलेस्ट्रॉल (cholesterol) का स्तर 100 mg/dl से निचे ही होना चाहिए। अगर एलडीएल cholesterol का लेवल 100 mg/dl से ज्यादा होता है, तो धमनियों में ब्लॉकेज होने का ख़तरा पैदा हो सकता है।

इसे भी पड़ें   हाथ-पैरों में कमजोरी झुनझुनी का एहसास होना है किस बीमारी के लक्षण
प्रश्न: कोलेस्ट्रॉल कैसे बढ़ता है?

उतर: कोलेस्ट्रॉल बढ़ने (high cholesterol) का कारण अधिक तेल और जंक फ़ूड है ,और इसके इलावा शराब का अधिक सेवन, तंबाकू का सेवन और अव्यवस्थित जीवनशैली हो सकता है। इसके अलावा, हुई उम्र और मोटापा की समस्या भी कोलेस्ट्रॉल के बढ़ने का कारण बन सकती है।

प्रश्न: कोलेस्ट्रॉल में कौन सा फल खाना चाहिए?

उतर: कोलेस्ट्रॉल को बैलंस्ड रखने के लिए ख़ुबानी, सीताफल, अंगूर, और नारियल का जियादा सेवन करना फायदेमंद हो सकता है, जो हृदय स्वास्थ्य को बनाए रखने में मदद कर सकते हैं।

प्रश्न: कोलेस्ट्रॉल क्या खाने से बढ़ता है?

उतर: कोलेस्ट्रॉल ज्यादा मात्रा में तेल, मिठाई, बटर, और प्रोसेस्ड फ़ूड्स खाने से बढ़ सकता है, जिससे हाई कोलेस्ट्रॉल की समस्या हो सकती है।

प्रश्न: कोलेस्ट्रॉल में कौन सा तेल खाना चाहिए?

उतर: कोलेस्ट्रॉल को कम करने के लिए जैतून तेल, कानोला तेल का सेवन करना चाहिए, क्योंकि ये हृदय स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद हो सकते हैं।

डिस्क्लेमर:

इस ब्लॉग में मौजूद किसी भी उपाय को करने से पहले हमेशा किसी विशेषज्ञ या डॉक्टर से सलाह जरूर लें। Upayehealth.com इस जानकारी के लिए किसी भी तरह की जिम्मेदारी का दावा नहीं करता है। कृपया अपनी समझदारी से काम लें।

इसे भी पड़ें:

हाथ-पैरों में कमजोरी झुनझुनी का एहसास होना है किस बीमारी के लक्षण

खट्टी डकार का इलाज, तुरंत राहत पाने के घरेलू उपाए

Leave a Comment