Shambhavi Mahamudra in Hindi: शांभवी महामुद्रा के फायदे, नुकसान पूरी जानकारी

Spread the love

Shambhavi Mahamudra in Hindi: दोस्तों, ध्यान और आध्यात्मिकता की दुनिया में सफर करते समय, हम अक्सर कई योग आसनों और योग किर्यायों के बारे में सुनते हैं। यहां तक कि हमने कई तकनीकों को अपनाया भी है, पर “शांभवी महामुद्रा” एक ऐसी चमत्कारी और असरदार योग क्रिया है जिसका अनुभव कुछ अलग होता है। यह तकनीक न केवल हमें मानसिक और आत्मिक शांति देती है, बल्कि हमें अपने आत्मा के साथ एकाग्रता और संवेदनशीलता का अनुभव कराती है।

इस ब्लॉग (Shambhavi Mahamudra in Hindi) में, हम शांभवी महामुद्रा की चमत्कार और इसके अद्भुत लाभों को जानेंगे। हम इस अलौकिक योग क्रिया को कैसे करें और इसे हमारे जीवन पर क्या असर होंगे, इस पर भी चर्चा करेंगे। तो आइए, इस चमत्कारी और आत्मिक सफर में हम साथ चलें और शांभवी महामुद्रा (maha mudra in hindi) अपने जीवन में लागू करें।

शांभवी महामुद्रा क्या है? – Shambhavi Mahamudra in Hindi

Shambhavi Mahamudra Kya Hai: इस मुद्रा से हमें अपने आत्मा की शक्ति को महसूस कर सकते हैं और हमें अपने अंतर्मन की गहराई में जा कर उसके साथ मिलन कर सकते हैं। यह ध्यान मुद्रा एक ऐसी क्रिया है, जो हमें शांति और संवेदनशीलता की तरफ ले जाती है और अपने मन को स्थिर और शांत बनाने में मदद करती है।

शांभवी महामुद्रा का अर्थ है अपनी आत्मा के साथ मिलना है। इस योग मुद्रा में, हम अपने श्वास के साथ ध्यान को केंद्रित करते हैं और अपने मन को स्थिर करते हैं। इसके माध्यम से, हम अपने असली मानसिक शक्ति तक पहुँच पाते हैं और अपनी आत्मिक सफर को आगे बढ़ाते हैं। इस ध्यान की तकनीक को नियमित अभ्यास करने से हम अपने जीवन में आत्म बल , स्थिरता, और आत्म विकास की ऊर्जा को बढ़ा सकते हैं।

इसे भी पड़ें   लड़कियां क्यों करवाती हैं बॉडी मसाज | लड़कियां किस उम्र में ज्यादा करवाती है मसाज

इसे भी पड़ें- Anxiety in Hindi: एंग्जायटी क्या है, लक्षण, कारण और उपचार

शांभवी महामुद्रा के फायदे? – Shambhavi Mahamudra Ke Fayde

शांभवी महामुद्रा करने से हमें कई फायदे होते हैं। यह ध्यान मुद्रा हमारे शारीरिक, मानसिक, और आत्मिक स्वास्थ्य में सुधार करती है। मानसिक शांति के साथ-साथ, इसका प्रयोग हमें सेल्फ कंट्रोल भी सिखाता है, जिससे हम अपने मन को नियंत्रित कर सकते हैं। इसके अलावा, यह हमारे शारीरिक स्वास्थ्य को भी सुधारता है, शंभव मुद्र बेनफट्स-

  • मानसिक शांति: शांभवी महामुद्रा का अभ्यास करने से मन में शांति और स्थिरता का अनुभव होता है। यह हमें तनाव, चिंता और मन की चंचलता से दूर ले जाता है।
  • सेल्फ कंट्रोल: शांभवी महामुद्रा के माध्यम से हम अपने मन को कंट्रोल करने की क्षमता को बढ़ा सकते हैं और मन में आने वाले अनचाहे विचरों को रोक सकते हैं।
  • ब्लड फ्लो: शांभवी महामुद्रा करने से हमारा शारीरिक स्वास्थ्य सुधरता है और शरीर में ब्लड फ्लो को बेहतर बनाता है, जो हमें जीवन में स्थिरता और शांति प्रदान करता है।
  • आत्म विकास: शांभवी महामुद्रा के अभ्यास से हम अपने असली स्वरूप को अनुभव करते हैं और अपनी आत्मिक यात्राके सफर में आगे बढ़ते सकते हैं।
  • नींद की समस्या: शांभवी महामुद्रा नींद न आने की समस्या मैं भी लाभकरी इस मुद्रा को करने से हमें गहरी नींद आती है और सोते समय मन शांत रहता है।

शाम्भवी महामुद्रा कैसे करे? – Shambhavi Mahamudra Kaise Kare

शांभवी मुद्रा करने सेहमें जीवन में स्थिरता और ध्यान की शक्ति को अनुभव होता है। इस योग मुद्रा का अभ्यास करना हमें एक संजीवनी शक्ति और आत्मविश्वास प्रदान करता है, जो हमें जीवन के हर क्षेत्र में सफलता की दिशा में आगे बढ़ने में मदद करता है। तो चलिए देखते हैं. शांभवी मुद्रा की विधि –

  • सबसे पहले, हमें एक स्थान चुनने की आवश्यकता है जहाँ हम शांति से बैठ सकें। फिर हमें तय करना होगा कि हम इस क्रिया को किस समय अभ्यास करेंगे।
  • उसके बाद, हम आसन में बैठते हैं। यहां, हमें किसी भी आसन को चुनने की आवश्यकता है, जो हमें आरामदायक लगे। हम अपनी उंगलियों को ज्ञान मुद्रा में लेते हैं और हाथों को घुटनों पर रखते हैं।
  • तीसरे कदम में, हम अपने मन को ध्यान में केंद्रित करते हैं। हम अपनी ध्यान को आंखों के बीच केंद्रित करते हैं। आंखों से हम उस जगह को नहीं देख सकते जहां दो भौंहें मिलती हैं, लेकिन हम उस दिशा की ओर ध्यान केंद्रित करते हैं।
  • चौथे कदम में, हम अपने आंखों को खोलकर ध्यान करते हैं। हम दो भौंहों को एकजुट मिलने वाली दो गोलाकार रेखाओं को देख सकते हैं। यह हमें अज्ञा चक्र को जागरत करने में मदद करता है।
  • अंत में, हम नियमित सांस लेते हैं और ध्यान में गहराई में जाते हैं। धीरे-धीरे, हमारी सांसें अधिक सूक्ष्म होती जाती हैं, जिससे हम अपने अज्ञा चक्र को जागरत कर सकते हैं। यह हमें शांति और स्वस्थ मन की दिशा में आगे बढ़ाता है।
इसे भी पड़ें   जल्दी डिस्चार्ज को कैसे रोकें: कारण, इलाज, और घरेलू उपाय

इसे भी पड़ें- Godhan Ark Ke Fayde: गोधन अर्क के फायदे और नुकसान, सेवन विधि, मूल्य (पूरी जानकारी)

शांभवी मुद्रा के नुकसान? – Shambhavi Mudra Ke Nuksan

शांभवी मुद्रा को नियमित रूप से अभ्यास करने के कई लाभ होते हैं, पर देखा जाये तो, इसके कुछ नुकसानों की भी हो सकते हैं। नीचे हम आपको शांभवी मुद्रा से होने वाले नुकसानों के बारे में बताएँगे।

  • ज्यादा समय तक बैठे रहने से दर्द: शांभवी मुद्रा को लंबे समय तक अभ्यास करने से शारीरिक दर्द की संभावना हो सकती है, खासकर पीठ में और घुटनों में।
  • आंखों में तनाव: शांभवी मुद्रा को करते समय आंखों में तनाव का अनुभव हो सकता है, जो लंबे समय तक शांभवी मुद्रा करने पर ज्यादा हो सकता है।
  • ध्यान की कमी: शांभवी मुद्रा को नियमित अभ्यास न करने पर, ध्यान की कमी हो सकती है और व्यक्ति की मानसिक स्थिति पर असर डाल सकती है।
  • हाई ब्लड प्रेशर की समस्याएं: कुछ लोगों को शांभवी मुद्रा को करते समय उच्च रक्तचाप यानि हाई ब्लड प्रेशर की समस्या हो सकती है।

इन नुकसानों को नजरअंदाज न करते हुए, यह आपके लिए अच्छा होगा कि शांभवी मुद्रा को सही ढंग से सीखें और ध्यान दें कि किसी भी समस्या के लक्षणों को समय रहते पहचाना जा सके। अगर आपको इनमें से किसी भी समस्या का सामना हो, तो चिकित्सक से परामर्श लेना न भूलें।

निष्कर्ष

दोस्तों अपने देखा कैसे इस अद्भुत योग क्रिया के माध्यम से, हम अपने जीवन में स्थिरता, संवेदनशीलता और आत्म-समर्पण का अनुभव कर सकते हैं। शांभवी महामुद्रा का अभ्यास हमें मानसिक, शारीरिक, और आत्मिक स्वास्थ्य के लिए चमत्कारी फायदे प्रदान करता है। इसके माध्यम से, हम अपनी आत्मा के साथ मिलन करते हैं और अपने जीवन को एक नई दिशा में ले जाते हैं। इसलिए, शांभवी महामुद्रा को अपने जीवन में शामिल करके हम अपने आत्मा के साथ एक गहरा और संवेदनशील संबंध का अनुभव कर सकते हैं।

इसे भी पड़ें   ब्रेस्ट पर किस करने से क्या होता है? अंदर की बात जो कोई नहीं जानता

यह ध्यान का एक शक्तिशाली उपाय है, जो हमें अपने जीवन में संतुलन और विकास के रस्ते पर ले जाता है। दोस्तो, अगर आपका इस लेख को लेकर कोई सवाल है, तो आप हमे कमेंट बॉक्स में सवाल पूछ सकते हैं। हमें आपके सवाल का इंतजार रहेगा चलिए तो मिलते हैं फिर किसी अगले ब्लॉग में। धन्यवाद् !

इन्हें भी पड़ें

सरसों का तेल कान में डालने से क्या होता है? जानिए सचाई

पेट दर्द का देसी उपचार सिर्फ 5 मिनटों में पाएं राहत

Leave a Comment