मेनोपॉज के दौरान शारीरिक संबंध बनाये जा सकते हैं क्या, पूरी जानकारी

Spread the love

मेनोपॉज के दौरान शारीरिक संबंध बनाये जा सकते हैं क्या: महिलाओं के जीवन में मेनोपॉज़ एक ऐसी स्टेज होती है, जो अक्सर महिलाओं में शारीरिक और इमोशनल बदलाव के साथ आती है। इस समय महिलओं के लिए यौन संबंधों के बारे में बात करना बहुत जरूरी होता है।

ज्यादातर महिलाएं यह जानना चाहती हैं कि क्या मेनोपॉज़ के दौरान शारीरिक संबंध बना सकते हैं या नहीं, अगर बना सकते हैं तो क्या वह उनके लिए सेफ है। इस ब्लॉग में, हम इस विषय पर बात करेंगे।

मेनोपॉज क्या है – Menopause Meaning in Hindi

मेनोपॉज के बाद ब्लीडिंग: महिलाओं में मासिक धर्म का अंत (मेनोपॉज की सही उम्र क्या है) आमतौर पर 45 से 55 वर्ष की आयु के बीच होता है। महिला इस दौरान माँ बनने का अधिकार खो देती है। यह योनि की स्त्राविक अवधि, खासकर एस्ट्रोजेन की कमी के कारण होता है। मेनोपॉज़ भी यौन स्वास्थ्य और इच्छा को प्रभावित कर सकता है, जैसे कि हॉट फ्लैशेस, मूड स्विंग्स और नींद टाइमिंग में बदलाव आदि।

इसे भी पड़ें:- प्रेगा न्यूज़ प्रेगनेंसी टेस्ट कितने दिन बाद करना चाहिए, पूरी जानकारी

मेनोपॉज के लक्षण – Symptoms of menopause

मेनोपॉज में होने वाली समस्याएं, महिलाएं मेनोपॉज़ के दौरान यौन संबंधों में कई चुनौतियों का सामना कर सकती हैं। यौन संबध इच्छा की कमी, यौन संबध बनाते समय आनंद की कमी और संबंध के दौरान बेचैनी जैसी समस्याएं हो सकती हैं। योनि में सूखापन, योनि की संवेदना में बदलाव और संबंध के दौरान असहजता के कारण यौन संबंध में असंतुष्टि और कम उत्साह हो सकता है।

इसे भी पड़ें   जल्दी डिस्चार्ज को कैसे रोकें: कारण, इलाज, और घरेलू उपाय

मेनोपॉज के बाद क्या करें – What to do after menopause

मेनोपॉज़ के बाद यौन संबंधों की समस्याओं का सामना करने के लिए कई विकल्प हैं। संबंधों बनाने के दौरान, योनि का सूखापन और असहजता के लिए एस्ट्रोजेन क्रीम का उपयोग कर सकते हैं, पर मेनोपॉज़ के दौरान कोई भी उपाए करने से पहले आपको किसी विशेषज्ञ की सलाह जरूर लेनी चाहिए।

इसे भी पड़ें:- प्राइवेट पार्ट में खुजली के घरेलू उपाय, Khujli से हमेशा के लिए छुटकारा

मेनोपॉज़ को स्वीकार करना – Accepting menopause

मेनोपॉज़ महिलाओं में कई तरह के शारीरिक बदलाव लाता है, लेकिन यह जीवन में विकास और खुद को समझने अवसर भी देता है। इस स्टेज में बहुत सी महिलाएं फ्रीडम और सेल्फ अवेर्नेस की नई भावना महसूस करती हैं। यौन संबंधों को नये सिरे से शुरू करना आपको एक अलग ही रोमांच देगा। मेनोपॉज़ के दौरान कई तरह के अनुभव करेंगे।

मेनोपॉज में क्या खाना चाहिए – What to eat during menopause

महिलाओं के जीवन में मेनोपॉज (Menopause) एक अहम् स्टेज है, जिसमें हार्मोनल बदलाव होते हैं और शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य पर प्रभाव पड़ता है। मेनोपॉज में संतुलित, स्वस्थ आहार लेना बहुत है। मेनोपॉज के दौरान स्वस्थ आहार पर विशेष ध्यान देना चाहिए। इसमें पर्याप्त मात्रा में फिटोएस्ट्रोजन, फाइबर, प्रोटीन, मिनरल्स और विटामिन होना चाहिए। सब्जियों, फलों, अनाजों, दूध उत्पादों, मसालों और सूखे मेवों को अधिक से अधिक खाना चाहिए। हाइड्रेटेड रहने के लिए अधिक पानी चाहिए।

मेनोपॉज के दौरान सोया से बने प्रोडक्ट्स, मूंगफली, लाल मांस, सामग्री, खजूर जो हार्मोनल संतुलन को बनाए रखने में मदद कर सकते हैं। विशेष ध्यान देना मोटापा कम करने के लिए शुगर, आटा और प्रोसेस्ड फ़ूड, जंक फ़ूड का सेवन कम करना चाहिए।

इसे भी पड़ें   ब्रेस्ट पर किस करने से क्या होता है? अंदर की बात जो कोई नहीं जानता

इसे भी पड़ें:- 1 दिन में कितनी बार करना चाहिए सेक्स, अगर चाहती हैं प्रेगनेंसी

मेनोपॉज के लक्षण कितने समय तक रहते हैं – How long do menopause symptoms last

मेनोपॉज (Menopause) के लक्षण ज्यादातर महिलाओं में कुछ साल तक रह सकते हैं, लेकिन इसकी अवधि महिलओं की शारीरिक और मेन्टल हेल्थ पर निर्भर करती है। जबकि कुछ महिलाओं में लक्षण थोड़े ही समय में समाप्त हो जाते हैं, वहीं दूसरी और कुछ महिलाओं में लक्षण लंबे समय तक रहते हैं।

महिलाओं को लक्षणों की अवधि में सही राहत और परामर्श पाने के लिए अपने चिकित्सक से मिलना चाहिए। जिस समय तक लक्षण रहते हैं, उस महिला की शारीरिक स्थिति और अपनाए जाने वाले उपायों पर आम तौर पर निर्भर करता है।

निष्कर्ष

इस ब्लॉग में (मेनोपॉज के दौरान शारीरिक संबंध बनाये जा सकते हैं क्या) हमने यह बताया है कि, मेनोपॉज़ के दौरान शारीरिक संबंध संभव और आनंद देने वाले भी हो सकते हैं। इंटिमेसी को प्राकृतिक रूप से स्वीकार करने और मेनोपॉज़ (Menopause) के परिवर्तनों को समझने के साथ, अपने जीवन साथी के साथ खुली बातचीत कर सकती हैं। याद रखें कि हर महिला का मेनोपॉज़ का अनुभव अलग होता है, इसलिए नियमित रूप से डॉक्टर से परामर्श लेना जरूरी है।

इन्हें भी पड़ें:-

Multani Mitti ke Fayde: मुल्तानी मिट्टी से चेहरे के दाग-धब्बे कैसे हटाए

Anxiety in Hindi: एंग्जायटी क्या है, लक्षण, कारण और उपचार

Leave a Comment